Friday, September 2, 2011

तेरी यादों को...

''तमन्नाओं को तकिया,
एहसासों को बिस्तर बनाकर सो गए
हम तो तेरी यादों को चादर बनाकर सो गए। ''
- प्रवीण तिवारी 'रौनक' 

No comments:

Post a Comment